Only the mercy of GOD.
  कौन है खुदा-गॉड-परमेश्वर ?
                                                                                                                         Viewer:       Rating:  
       परमात्मा-खुदा-गॉड-भगवान शरीर नहीं अपितु एक सर्वोच्च शक्ति-सत्ता है। वह अद्वितीय परमतत्त्वम रूप आत्मतत्त्वम शब्दरूप भगवतत्त्वम है। वह परम आकाश रूप परमधाम-बिहिश्त-पैराडाइज़ का वासी है। परमतत्त्वम रूप परमात्मा किसी भी भूत प्राणी में, यहाँ तक कि योगी, ऋषि, महर्षि, देवी, देवता, नारद, ब्रह्मा एवं शंकर जी के अंदर भी नहीं रहते हैं। इतना ही नहीं वे भूमण्डल तथा ब्रह्मा आदि के देव लोक में भी नहीं रहते हैं। हालांकि सभी ऋषि-महर्षि गण, साधक-महात्मा, पीर-पैगम्बर आदि ने भूल, भ्रम एवं नाजानकारीवश आत्मा को ही परमात्मा, नूर को ही अल्लाहतला घोषित कर दिया, समस्त भूत प्राणियों के अन्दर तथा कण कण में परमात्मा का निवास स्थान घोषित कर दिया जो कि बिल्कुल झूठ एवं गलत है। लगभग सभी सद्ग्रंथ इन्ही लोगों के द्वारा लिखे गए हैं। अब परमतत्त्वम रूपी परमात्मा कोई समाप्त होने वाली वस्तु तो है नहीं जो इन सभी जड़वादियों, अध्यात्मिकों और साधना वालों द्वारा समाप्त कर दी जाय। इन लोगों के द्वारा जब जब सामूहिक रूप से परमात्मा के मूल अस्तित्व को समाप्त कर उसके स्थान पर ॐ व अहं ब्रह्मास्मि से सम्बंधित जड़वादी धारणा तथा सोsहं-हँसो और शिव ज्योति से सम्बंधित चेतनवादी धारणा घोषित कर दी जाती है, तब तब परम आकाश रूप परमधाम का वासी परमतत्त्वम रूप परमात्मा का, परमात्मा के मूल अस्तित्व (परमतत्त्वम) की पुनर्स्थापना तथा मूल अस्तित्व को मिटाने वालो को ही मिटाने हेतु धर्म वाले लोगो की रक्षा के लिए ही किसी विशेष शरीर को धारण कर अवतरण होता है।
जब तक परमतत्त्वम रूपी परमात्मा शरीर विशेष के साथ रहते हुये इस भूमण्डल पर कार्य करता रहता है तब तक तो अधिकतर जड़वादी लोग उससे टकराते और संघर्ष करते हुये दानवी परमरा को कायम रखते हैं तथा चेतनवादी लोग इस संघर्ष में मौन रूप धारण कर ऋषि-महर्षियों की परम्परा को कायम रखते हैं। अन्त में जब परमात्मा वाला शरीर अपने लक्ष्य की पूर्ति में सफल हो जाता है, तब नारद, बाल्मीकी और व्यास जी जैसे सिद्ध चेतनवादी लोग परमात्मा द्वारा बताए हुये विधान को ही धर्म घोषित कर देते हैं जो कि सनातन धर्म है। उनको लिखित रूप देकर वेद-उपनिषद, रामायण, गीता-पुराण, बाइबिल व क़ुरान आदि जैसे सद्ग्रंथों की रचना कर देते हैं। परमात्मा की रहस्यमय यथार्थ जानकारी तो एकमात्र परमात्मा ही दे सकते हैं। परमतत्त्वम रूपी परमात्मा तो कभी भी और किसी भी प्राणी के अन्दर तथा पूरे भूमण्डल पर कहीं भी नहीं रहते हैं। वह तो केवल परम आकाश रूपी परमधाम में ही रहते हैं। जब जब भूमण्डल पर अत्याचार और दुर्व्यवस्था चारों तरफ ही फैल जाती है, मानवीय तथा दैवीय शक्तियों के नियंत्रण से बाहर हो जाती है, तब तब भक्तों की करुण पुकार को सुनकर उनका भूमण्डल पर अवतार होता है। परमात्मा के वास्तविक स्वरूप का वर्णन करना तो असम्भव है क्योंकि समस्त सृष्टि में ऐसा कुछ भी नहीं है जिसके साथ उनकी तुलना की जा सके। परमतत्त्वम रूपी परमात्मा स्वयं तो नाम-रूप से रहित है किन्तु सृष्टि के सम्पूर्ण नाम-रूप उसी से उत्पन्न तथा उसी में तत्वज्ञान द्वारा विलय कर लिए जाते हैं, अर्थात सृष्टि का सम्पूर्ण मै-मै तू-तू तथा ॐ – अहं ब्रह्मास्मि और सोsहं भी उसी से उत्पन्न तथा तत्वज्ञान द्वारा शरीर से अलग जीव (अहं), जीव से अलग आत्मा (हँसो) होता दिखाई देता हुआ उसी परमतत्त्वम रूपी परमात्मा में विलय होते हुये साक्षात जाना व देखा जाता है। उसी के द्वारा पुरुषोत्तम अवतारी की पहचान भी होती है। “तत्व के द्वारा तत्व को ही जानना, देखना तथा तत्वमय होते हुआ अपने आप को देखना – पहचान करना ही तत्वज्ञान कहलाता है”।
        “परमब्रह्म परमेश्वर के जिस अविनाशी परम आकाश रूप परमधाम में समस्त देवगण अर्थात उन परमात्मा के पार्षदगण उन परमेश्वर की सेवा करते हुये निवास करते हैं, वहीं समस्त वेद भी पार्षद के रूप में मूर्तिमान होकर भगवान की सेवा करते हैं। जो मनुष्य उस परमधाम में रहने वाले परमब्रह्म पुरुषोत्तम को नहीं जानता और इस रहस्य को भी नहीं जानता कि समस्त वेद उन परमात्मा की सेवा करने वाले उन्ही के पार्षद हैं, वह वेदों के द्वारा क्या प्रयोजन सिद्ध करेगा ? अर्थात कुछ सिद्ध नहीं करेगा। परन्तु जो मनुष्य उस परमात्मा को ‘तत्वतः’ जान लेते हैं, वे तो उस परमधाम में ही सदा के लिए स्थित हो जाते हैं”।
                                                                                                                                                           (वेदों से)
       “वे जन्म-मृत्यु आदि विकारों से रहित, देशकालादिकृत परिच्छेदों से मुक्त एवं स्वयं आत्मतत्त्वम ही हैं। जगत की उत्पत्ति-स्थिति-प्रलय करने वाली शक्तियाँ भी उनकी स्वरूपभूत ही हैं, भिन्न नहीं। ब्रह्मा, इन्द्र, शंकर आदि लोकपाल भी उनकी स्तुति करना लेशमात्र भी नहीं जानते। उन्ही एकरस सच्चिदानंदघन रूप परमात्मा-परमेश्वर को मैं नमस्कार करता हूँ”।
                                                                                                                          (श्री मदभागवत महापुराण से)
       “प्यारे उद्धव! जो पुरुष शब्दमय वेदों और शास्त्रों का तो पारगामी विद्वान हो परन्तु परमब्रह्म के ज्ञान से शून्य हो, उसके परिश्रम का कोई फल नहीं है। वह तो वैसा ही है जैसे बिना दूध की गाय पालने वाला”।
                                                                                                                          (श्री मदभागवत महापुराण से)
       “हे अर्जुन! यह ‘आत्मतत्त्वम’ बड़ा ही गहन है, इसलिए कोई तो इस ‘आत्मतत्त्वम’ को आश्चर्य की तरह देखता है, कोई महापुरुष इस ‘आत्मतत्त्वम’ को आश्चर्य की तरह बोलता है और वैसे दूसरा कोई ही आश्चर्य की तरह सुनता है और कोई कोई सुनकर भी इस तत्व को जान नहीं पाता”।
                                                                                                                                  (श्रीमद भगवत गीता से)
       “हे अर्जुन! मुझे न तो देवता लोग जानते हैं और न तो मेरी उत्पत्ति और प्रभाव को महर्षिगण ही जानते हैं क्योंकि मैं सब प्रकार से देवताओं का और महर्षियों का भी आदि कारण हूँ”।
                                                                                                                                  (श्रीमद भगवत गीता से)
       “हे भारत! जब जब धर्म की हानि और अधर्म की वृद्धि होती है, तब तब ही मैं अपने रूप को रचता हूँ अर्थात साकार रूप में लोगों के सम्मुख प्रकट होता हूँ”।
                                                                                                                                  (श्रीमद भगवत गीता से)
       “हे अर्जुन! मेरा यह जन्म एवं कर्म दिव्य अर्थात अलौकिक है, इस प्रकार जो पुरुष ‘तत्त्व’ से जानता है, वह शरीर त्यागकर फिर जन्म को नहीं प्राप्त होता है अपितु मुझे ही प्राप्त होता है”।
                                                                                                                                  (श्रीमद भगवत गीता से)
       “हे अर्जुन! मैं तेरे लिए विज्ञान सहित तत्त्वज्ञान के उस रहस्य को सम्पूर्णता से कहूँगा, जिसको जानकर संसार में फिर और कुछ भी जानने योग्य शेष नहीं रहता है”।
                                                                                                                                  (श्रीमद भगवत गीता से)
       “हे अर्जुन! न वेदों से, न तप से, न दान से, न यज्ञ से, न योग और न मुद्रा आदि क्रियाओं से ही इस प्रकार तत्त्व रूप ‘मैं’ देखा जा सकता हूँ, जैसा मेरे को तुमने देखा है”।
                                                                                                                                  (श्रीमद भगवत गीता से)
       “यदि तू अन्य पापियों से भी अधिक पाप करने वाला है तो भी तू इस ज्ञान रूप नौका द्वारा निःसंदेह सम्पूर्ण पाप समूह से भली भाँति तर जाएगा”।
                                                                                                                                  (श्रीमद भगवत गीता से)
       “वेद पुराणों को जानता हुआ भी जो पुरुष परमार्थ तत्व को नहीं जानता, ऐसे उस विडम्बक का पड़ना और बोलना सब कुछ कौवों की तरह केवल टाय-टाय ही है”।
                                                                                                                                               (गरुण पुराण से)
       “मुक्ति न तो वेदों के अध्यन से होती है और न तो शास्त्रों के पड़ने से ही। मुक्ति तो हे गरुण केवल तत्त्वज्ञान से ही प्राप्त होती है”।
                                                                                                                                               (गरुण पुराण से)
       “परमब्रह्म कल्याण रूप अद्वैत है। वह कर्मकाण्ड, योग-साधना, मुद्राओं आदि क्रियाओं के परिश्रम से नहीं प्राप्त होता है और न करोड़ों शास्त्रों के पड़ने से ही मिलता है, वह केवल गुरु के सदुपदेश से ही मिलता है”।
                                                                                                                                               (गरुण पुराण से)
       “तभी तक ही तप, व्रत, तीर्थटन, जप, होम और देव पूजा आदि है तथा तभी तक ही वेद, शास्त्र और आगमों की कथा है, जब तक कि तत्त्वज्ञान प्राप्त नहीं होता। तत्त्वज्ञान प्राप्त होने पर ये सब कुछ भी नहीं है”।
                                                                                                                                               (गरुण पुराण से)
                                                 परमेश्वर के अस्तित्व का वैज्ञानिक प्रमाण
                                                                                                                                    
Commnets:- 0
Leave Your Comments

 Name* :      

 E-mail*:     (For Ex-mohan07@gmail.com)   

 Comment*:
                    

                        


                                                                                                                 Copyright ©2010 Atom To Almighty.
General Thoughts
True Knowledge