Only the mercy of GOD.
  परमेश्वर के अस्तित्व का वैज्ञानिक प्रमाण
                                                                                                                         Viewer:       Rating:  

       यह ब्रह्मांड, जिसकी उत्पत्ति के बारे में हमारे वैज्ञानिक अभी तक किसी ठोस निष्कर्ष पर नहीं पहुँच सके हैं, इसमें करोड़ों अरबों आकाश गंगायें (गैलेक्सी) हैं। आकाश गंगा तारों का एक समूह होता है जिसमें करोड़ों तारे होते हैं। एक एक तारे का आकार सूर्य के आकार से कई लाख गुना अधिक होता है और सूर्य का आकार हमारी पृथ्वी के आकार से कई लाख गुना अधिक है। इस प्रकार इतने विशाल आकार वाले करोड़ों तारों के समूह वाली एक आकाश गंगा कितनी विशाल है, आप समझ ही सकते हैं और ऐसी ही अरबों विशाल आकाश गंगायें एक ब्रह्मांड में होती हैं। इससे ब्रह्मांड की विशालता का अनुमान लगाया जा सकता है। अब इतने विशाल ब्रह्मांड में इस पृथ्वी का अस्तित्व कितना है ? शायद एक विशाल रेगिस्तान में पड़े एक रेत के कण जितना ! और अब इस पृथ्वी पर रहने वाले इंसान का अस्तित्व ? लगभग नगण्य ! अब इस नगण्य अस्तित्व वाले इंसान की हिमाकत तो देखो !! अपनी चंद वैज्ञानिक उपलब्धियों के नशे में इतना चूर हो गया कि उसने इस अनंत श्रष्टि के रचियता खुदा/गॉड/परमेश्वर के अस्तित्व को ही चुनौती दे डाली । जरा देखो तो कितनी बड़ी धृष्टता है इस इंसान कि !!!! इसे अपने अस्तित्व का तो कुछ पता है नहीं और चुनौती देता है उस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अस्तित्व को !! तथाकथित वैज्ञानिक दृष्टिकोण रखने वाले लोग हर चीज को विज्ञान के चश्में से देखते हैं, जबकि ये लोग शायद विज्ञान की वास्तविक परिभाषा भी नहीं जानते ! ऐसे लोगों से मैं एक सवाल पूंछना चाहूँगा कि क्या इन्होने अपने माता पिता से उनके माता पिता होने का वैज्ञानिक प्रमाण कभी माँगा था ? शायद नहीं । इसके बाबजूद ये लोग वैज्ञानिक प्रमाण माँगते हैं उस सर्वशक्तिमान के अस्तित्व का। लेकिन ये लोग भूल गए कि वह सर्वशक्तिमान इस श्रष्टि का सबसे पक्का खिलाड़ी है। उसने अपने अस्तित्व के प्रमाण अगर हर जगह हर क्षेत्र में नहीं छोड़े होते तो यह धूर्त इंसान उसका अस्तित्व मिटाने में कोई कसर बाकी नहीं छोडता । उस सर्वशक्तिमान ने अपने अस्तित्व के इतने ठोस और वैज्ञानिक प्रमाण इस ब्रह्मांड में छोड़े हैं कि अगर किसी को विज्ञान की ज़रा भी परिभाषा मालूम है तो वह उस परमेश्वर के अस्तित्व को नकार नहीं सकता ।

       वैज्ञानिक प्रमाण के लिए हम बात करते हैं एक ऐसे सत्य की जो कि स्वयं में प्रमाणित(self evident) और Universal Truth है । वह है “Concept and design necessitate an intelligent designer” अर्थात concept और design के लिए एक intelligent designer की जरूरत होती है । The presence of an intelligent design proves the existence of an intelligent designer. अब सवाल यह उठता है कि intelligent design किसे कहते हैं ? Intelligent Design वह Design है जिसमें विशेष जटिलता (specified complexity) होती है । जैसे कि DNA Molecule. यह विज्ञान कि अब तक की सर्वश्रेष्ट खोजों में से एक है । DNA संसार में पायी जाने वाली विशेष जटिल संरचनाओ में से एक है। इसमें पाये जाने वाले adenine(A), thymine(T), cytosine(C) and guanine(G) genetic alphabet में अक्षर(letter) की तरह कार्य करते हैं। Genetic Code में पाये जाने वाले A, T, C और G की तुलना Computer Software के Binary Code ‘0’ और ‘1’ से की जा सकती है। Computer Program की तरह ही DNA Code भी Genetic Language में लिखा हुआ एक Program है जो कि शरीर की कोशिकाओं में सूचना(Information) का स्थानांतरण(Transfer) करता है। दुनिया का कोई भी Computer Program बिना Programmer के नहीं बन सकता, तो फिर DNA Code रूपी इतना जटिल Program बिना किसी Programmer के कैसे बन गया ?

        We now know that the DNA molecule is an intricate message system. To claim that DNA arose by random material forces is to say that information can arise by random material forces. Many scientists argue that the chemical building blocks of the DNA molecule can be explained by natural evolutionary processes. However, they must realize that the material base of a message is completely independent of the information transmitted. Thus, the chemical building blocks have nothing to do with the origin of the complex message. As a simple illustration, the information content of the clause "Universe was created by GOD" has nothing to do with the writing material used, whether ink, paint or chalk. In fact, the clause can be written in binary code or smoke signals, but the message remains the same, independent of the medium. There is obviously no relationship between the information and the material base used to transmit it. Some current theories argue that self-organizing properties within the base chemicals themselves created the information in the first DNA molecule. Others argue that external self-organizing forces created the first DNA molecule. However, all of these theories must hold to the illogical conclusion that the material used to transmit the information also produced the information itself. Contrary to the current theories of evolutionary scientists, the information contained within the genetic code must be entirely independent of the chemical makeup of the DNA molecule

       The scientific reality of the DNA double helix can single-handedly defeat any theory that assumes life arose from non-life through materialistic forces. Evolution theory has convinced many people that the design in our world is merely "apparent" -- just the result of random, natural processes. However, with the discovery, mapping and sequencing of the DNA molecule, we now understand that organic life is based on vastly complex information code, and such information cannot be created or interpreted without a Master Designer at the cosmic keyboard

       हमें यह नहीं भूलना चाहिए की दुनिया का कोई भी Product अपने Producer के अस्तित्व का स्वयं प्रमाण होता है और ये ब्रह्मांड उस सर्वशक्तिमान द्वारा Produce किया गया सर्वश्रेष्ठ Product है ।

                                                                                                                                    
Commnets:- 0
Leave Your Comments

 Name* :      

 E-mail*:     (For Ex-mohan07@gmail.com)   

 Comment*:
                    

                        


                                                                                                                 Copyright ©2010 Atom To Almighty.
General Thoughts
True Knowledge